Answer for क्लाइंट लुकअप किसे कहते है

→ यूजर आमतौर पर सीधे एक डीएनएस रिसोल्वर के साथ सम्पर्क नहीं करते हैं। इसके बजाय डीएनएस रेजोल्यूशन एप्लीकेशन प्रोग्राम में पारदर्शी ढंग से जगह बनाता है जैसे कि वेब ब्राउजर, ई-मेल ग्राहक और अन्य इंटरनेट एप्लीकेशन प्रोग्राम।

– प्रोग्राम एप्लीकेशन के एक ऐसे अनुरोध जिसके लिये डोमेन लुकअप की आवश्यकता है ऐसे प्रोग्राम रेसोल्यूशन अनुरोध को स्थानीय ऑपरेटिंग सिस्टम में DNS रिसोल्वर को भेजते हैं जो बदले में आवश्यक संचार को कंट्रोल करता है।

DNS रिसॉल्वर में लगभग हमेशा ही हाल में प्रयुक्त किये लुकअप का कैश/संग्रह होता है। यदि कैश अनुरोध का उत्तर दे पाये तो रिसोल्वर कैश का उत्तर अनुरोध करने वाले प्रोग्राम को देगा।

– यदि कैश में उत्तर न हो तो रिसोल्वर एक या अधिक निर्दिष्ट डीएनएस सर्वरों को रिकवेस्ट भेज देगा। ज्यादातर यूजर्स के मामले में इंटरनेट सेवा प्रदाता जिससे मशीन सम्पर्क स्थापित करती है आमतौर पर इस डीएनएस सर्वर की आपूर्ति करता है। ऐसे यूजर का सर्वर पता मैन्युअल रूप से कॉन्फीगर होगा या DHCP को निर्धारित करने की अनुमति देगा।

– लेकिन जहां सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा अपने डीएनएस सर्वर प्रयोग करने के लिये सिस्टम कॉन्फीगर किये गये हैं उनका डीएनएस रिसोल्वर संगठन में अलग रखे गये नेम सर्वर की ओर संकेत करता है।

किसी भी परिस्थिति में पूछताछ किये जाने वाला नेम सर्वर ऊपर दी गयी प्रक्रिया का पालन करेगा जब तक कि सफलतापूर्वक परिणाम का पता न लग जाये अथवा ना लगा सके। तब यह अपना परिणाम डीएनएस रिसोल्वर को यह मानते हुए भेज देता है कि इसने उत्तर खोज लिया है और रिसोल्वर उत्तर को भविष्य के लिये कैश्ड या संग्रहित कर लेता है और उत्तर को उस सॉफ्टवेयर के पास वापिस भेज देता है जिसने प्रारम्भ में प्रश्न पूछा था।

जब रिसोल्वर DNS प्रोटोकॉल के नियमों का पालन नहीं करता है तो एक अतिरिक्त स्तर की जटिलता सामने आती है। बड़ी संख्या में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर ने अपने डीएनएस सर्वर नियमों का उल्लंघन करने के लिये यह मानते हुए सेट कर रखे हैं कि उन्हें पूर्ण नियमबद्ध रिसोल्वर के बजाय एक कम मंहगा हार्डवेयर चलाने की अनुमति मिली हुई है।

– जटिलता के अंतिम स्तर के रूप में कुछ एप्लीकेशन जैसेकि वेब ब्राउजर के भी अपने डीएनएस कैश होते हैं ताकि वे स्वयं डीएनएस रिसोल्वर लाइब्रेरी का प्रयोग कम करें।

इसमें अतिरिक्त मुश्किल तब और जुड़ जाती है जब डीएनएस मुद्दों की डिबगिंग होती है, क्योंकि यह डेटा की ताजगी का पता लगाना और यह बताना कि डेटा किस कैश में आ रहा है, कठिन बना देता है। ये कैश आम तौर पर बहुत कम कैशिंग समय एक मिनट के आदेश पर काम करते हैं। इंटरनेट एक्सप्लोरर एक उल्लेखनीय अपवाद प्रस्तुत करता है: recent तक संस्करण आधे घंटे तक डीएनएस रिकार्ड को कैश करता है।

Back to top button