Answer for गियर शिफ्ट मैकेनिज्म क्या होता है ?

संचरण प्रणाली में गियर बॉक्स के गियर बदलने के लिए गियर शिफ्ट मैकेनिज्म का प्रयोग किया जाता है। इसमें गियर चेंज लीवर, शाफ्ट रॉड या रेल, शिफ्ट फोर्क, रिटेनर्स तथा लॉक आदि मुख्य भाग होते हैं। इन्हें चित्र में दिखाया गया है। शिफ्ट लीवर के द्वारा शिफ्ट रॉड, शिफ्ट फोर्क को आगे या पीछे यथा स्थिति खिसकती है। शिफ्ट फोर्क में गियर फंसे रहते हैं, इस कारण फोर्क के साथ ही वे खिसककर वांछित गियर के साथ मिल जाते हैं। शिफ्ट शाफ्ट में गियर लॉक करने के लिए प्रायः बॉल व स्प्रिंग की व्यवस्था रहती है। गियर शिफ्ट लीवर प्राय: गियर बॉक्स के ऊपर ही लगाया जाता है। कुछ ट्रैक्टरों में इसे डैश बोर्ड के दाईं ओर नीचे को लगाया जाता है, जैसे कि जीटर ट्रैक्टर में। कुछ ट्रैक्टरों में मेन गियर शिफ्ट लीवर के साथ एक अन्य छोटा लीवर भी लगा रहता है। यह ट्रैक्टर के सभी गियरों के ‘लो’ अथवा ‘हाई स्पीड में कार्य करने योग्य बनाता है। कुछ ट्रैक्टरों में मेन गियर शिफ्ट लीवर के पास एक छोटा लीवर गियर बॉक्स की सभी चालों को रिवर्स या फारवर्ड करने का भी कार्य करता है।

गियर चेंज लीवर की स्थितियाँ Position of Gear Change Lever
आवश्यकतानुसार वांछित गियर डालने के लिए गियर चेंज लीवर का उपयोग किया जाता है। गियर लीवर को उठाकर, झुकाकर तथा दाएँ-बाएँ करके वाँछित गियर डाला जाता है। चित्र में कुछ ट्रैक्टरों के गियर लीवर की चालों को दर्शाया गया है। इन चित्रों से स्पष्ट हो जाता है कि कौन-सा गियर शिफ्ट लीवर को कहाँ खिसकाने से पड़ता है।

Back to top button