Answer for प्रोसेसर सॉकेट किसे कहते है

कम्प्यूटर के मदरबोर्ड में प्रोसेसर को लगाने के लिये सॉकेट होते हैं और ये कई तरह के होते हैं। ये पूरी तरह से कम्प्यूटर के मॉडलों पर निर्भर होते हैं। आइये कुछ सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाले सॉकेट के बारे में जानें

MMC-1: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 280 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 70×4 पिन होता है। यह 5V-21V पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल पेंटियम, सेलरऑन तथा पेंटियम-II प्रोसेसर को लगाया जा सकता है।

MMC-2: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 400 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 80×5 पिन होता है। यह 5V-21V पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल सेलरऑन तथा पेंटियम-II/ III और MMC-2 प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

MC: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 240 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 30×8 पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल पेंटियम-II और MC प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

Micro-PGA1: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 615 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 24×26 mPGA पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल सेलरऑन, पेंटियम-II micro-PGA 1 प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

Micro-PGA2: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 495 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 21×24 mPGA पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल सेलरऑन, पेंटियम-III micro-PGA 2 प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

सॉकेट 478: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 478 पिने होती हैं और इसका लेआउट 26×26 mPGA पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें सेलरऑन, पेंटियमIV FC-PGA 2 प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

mPGA479m: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 479 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 26×26 mPGA पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल सेलरऑन, पेंटियम-III/IV/M FC-PGA प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

सॉकेट A (462): मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 462 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 37×37 SPGA पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल, ड्यूरॉन और एथलॉन प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है।

सॉकेट 754: मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर के इस सॉकेट में 754 पिनें होती हैं और इसका लेआउट 29×29 mPGA पिन का होता है। यह ऑटो VRM पर कार्य करता है और इसमें मोबाइल और एथलॉन-64 प्रोसेसरों को लगाया जा सकता है। नोट: यहां पर ऑटो VRM का अर्थ है कि इसमें ऐसा वोल्टेज रेगुलेटर मॉड्यूल बिल्ट इन है जो प्रोसेसर की VID पिनों का प्रयोग करते हुए ऑटोमेटिक वोल्टेज स्लेक्शन कर सकता है।

– FC-PGA का अर्थ है फ्लिप फ्लॉप पिन ग्रिड एरे।
– PGA का अर्थ है पिन ग्रिड एरे।
– SPGA का अर्थ है Staggered पिन ग्रिड एरे।
– mPGA का अर्थ है माइक्रो पिन ग्रिड एरे।

कई कम्पनियों के लैपटॉप में डेस्कटॉप वाला प्रोसेसर भी प्रयोग होता है और उसमें वही सॉकेट होता है जो डेस्कटॉप में लगता है लेकिन कई कम्पनियों में विशेष आकार के प्रोसेसर प्रयोग होते हैं और उनके लिये सॉकेट भी स्पेशल होता है।

Back to top button