Answer for फ्यूज Fuse क्या होता है ?

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि अलग-अलग विद्युत सर्किटों में उनकी करण्ट क्षमता के अनुसार अलग-अलग नाप के तार प्रयोग किए जाते हैं, परन्तु किसी कारण से यदि उनमें शॉर्ट सर्किट हो जाए तो उनमें बहुत अधिक करण्ट आ जाता है, जिससे वह यन्त्र या लैप खराब हो सकता है। इससे बचने के लिए फ्यूज का प्रयोग किया जाता है। यह फ्यूज कॉटेज प्रकार का फ्यूज होता है। इसमें एक महीन सीसे का तार प्रयोग होता है जिसके दोनों ओर पीतल के कैप लगे होते हैं जिन्हें तार के साथ सोल्डर कर देते हैं। यह तार एक काँच की नली में बन्द रहता है। इस प्रकार के फ्यूज एक ही स्थान पर फ्यूज बॉक्स में लगाए जाते हैं। इनको उस सर्किट के सीरीज में प्रयोग करते हैं। यदि किसी कारण अधिक करण्ट उस सर्किट में आ जाता है तो इसका तार, जोकि बहुत पतला होता है, जल जाता है। इस प्रकार ए सर्किट का यन्त्र या लैम्प खराब होने से बच जाता है।
नया फ्यूज लगाने से पूर्व वायरिंग की जाँच अवश्य करा लेनी चाहिए कि फ्यूज क्यों जला है। प्रायः फ्यूज जलने के निम्नलिखित कारण हो जाते हैं
1. कम क्षमता का फ्यूज प्रयोग किये जाने से
2. उक्त सर्किट में शॉर्ट होने से
3. उक्त सर्किट में किसी कारण अधिक करण्ट आ जाने से
4. तारों के कनेक्शन ढीले होने से
5. फ्यूज के ढीले होने से गर्म होकर भी फ्यूज जल जाते हैं। .

इलेक्ट्रिक हॉर्न Electric Horn
भीड़ वाली सड़कों पर ट्रैक्टर चलाते समय आगे के ट्रैफिक को सावधान करने के लिए हॉर्न का ट्रैक्टर में फिट होना आवश्यक होता है। इसके न रहने से आगे को ट्रैफिक को हटने के लिए सावधान नहीं किया जा सकता है और हो सकता है कि आगे चलने वाला मोटरगाड़ी की चपेट में आ जाए। इसी कारण यह मोटर व्हीकल नियमों में भी आवश्यक है। बिना हॉर्न के मोटरगाड़ी चलाना अपराध है। मोटरगाड़ी में शुरू-शुरू में बल्ब हॉर्न का प्रयोग किया जाता था जिनमें बिगुल के साथ रबर का एक बल्ब-सा लगा रहता था। उस रबर के बल्ब को दबाने से हवा बिगुल के रीड्स में से निकलती थी तथा उससे आवाज आने लगती थी।
आजकल भी इलेक्ट्रिक हॉर्न के साथ इसको भी कुछ गाड़ियों में लगा देखा जा सकता है, परन्तु मुख्य रूप से इलेक्ट्रिक हॉर्न का प्रयोग किया जाता है। यह ट्रैक्टर के अगले भाग में सुविधाजनक स्थान पर फिट रहता है तथा इसके लिए पुश बटन स्विच स्टीयरिंग कॉलम या डैश बोर्ड आदि पर लगाया जाता है। डैश बोर्ड पर पुश बटन की व्यवस्था अब कुछ ही मोटर गाड़ियों में की जाती है। प्राय: हॉर्न पुश बटन अब स्टीयरिंग व्हील के सेन्टर में लगाया जाता है। वाहनों में इलेक्ट्रिक हॉर्न दो प्रकार के प्रयुक्त होते हैं
1. वाइब्रेटरी हॉर्न तथा
2. विण्ड टोन हॉर्न।

Back to top button