Answer for वाटर जैकेट क्या होता है ?

सिलेण्डर ब्लॉक तथा सिलेण्डर हैड में रेडिएटर का ठण्डा पानी पहुंचाने के लिए उनमें वाटर जैकेट बने होते हैं। ये वाटर जैकेट सभी गर्म स्थानों पर जैसे सिलेण्डर के चारों ओर, वाल्वों के पास तथा दहन कक्ष (कम्बशन चैम्बर) के समीप बने होते हैं। इनमें पहुँचा पानी इन स्थानों की गर्मी लेकर रेडिएटर में पहुँचाता रहता है।

रेडिएटर शटर तथा काउल Radiator Shutter and Cowl
रेडिएटर के पीछे की ओर एक काउल फिट किया जाता है। इसके लगाने से पंखे द्वारा खींची गई हवा सीधे इंजन पर जाती है। रेडिएटर शटर का प्रयोग ठण्डे प्रदेशों में किया जाता है। यह रैक्सीन का एक पर्दा होता है, इसे बन्द करने से रेडिएटर पर बाहर की ठण्डी हवा नहीं जा पाती है। इससे इंजन का तापमान कुछ सीमा तक नियन्त्रित रहता है। ट्रैक्टरों में सामान्यता इसका प्रयोग सर्दियों में किया जाता है।

पुन: प्राप्ति प्रणाली Recovery System
यह एक ऐसी शीतलन प्रणाली है, जो ट्रैक्टरों में शीतलक को हर समय व्यवस्थित बनाए रखती है। इस प्रणाली में रेडिएटर कैप में वाल्व के प्रतिकूल दाब को तब तक व्यवस्थित करते हैं, जब तक कि यह वर्तमान दाब तक न पहुँच जाए। इससे वाल्व खुल जाता है तथा गर्म शा लक जल-प्लावन (overflow) पात्र (container) से बाहर की तरफ प्रवाह करता है। इंजन के ठण्डा होने पर शीतलक अनुबन्ध तथा रेडिएटर (radiator) में दाब पात (pressure drop) होने लगता है। जल-प्लावन पात्र में वायुमण्डलीय दाब के कारण दूसरा वाल्व खुल जाता है तथा रेडिएटर में जल-प्लावन शीतलक (overflow coolant) पुनः वापस आने लगता है, जिससे शीतलक में किसी भी प्रकार की हानि नहीं होती तथा वायु की अत्यधिक मात्रा को प्रणाली से बाहर भेजता है। इस प्रणाली के प्रयोग से वाहनों में शीतलन प्रणाली सुचारु रूप से कार्य करने में सक्षम बन पाती है।

पुन: प्राप्ति प्रणाली Recovery System
यह एक ऐसी शीतलन प्रणाली है, जो ट्रैक्टरों में शीतलक को हर समय व्यवस्थित बनाए रखती है। इस प्रणाली में रेडिएटर कैप में वाल्व के प्रतिकूल दाब को तब तक व्यवस्थित करते हैं, जब तक कि यह वर्तमान दाब तक न पहुँच जाए। इससे वाल्व खुल जाता है तथा गर्म शा लक जल-प्लावन (overflow) पात्र (container) से बाहर की तरफ प्रवाह करता है। इंजन के ठण्डा होने पर शीतलक अनुबन्ध तथा रेडिएटर (radiator) में दाब पात (pressure drop) होने लगता है। जल-प्लावन पात्र में वायुमण्डलीय दाब के कारण दूसरा वाल्व खुल जाता है तथा रेडिएटर में जल-प्लावन शीतलक (overflow coolant) पुनः वापस आने लगता है, जिससे शीतलक में किसी भी प्रकार की हानि नहीं होती तथा वायु की अत्यधिक मात्रा को प्रणाली से बाहर भेजता है। इस प्रणाली के प्रयोग से वाहनों में शीतलन प्रणाली सुचारु रूप से कार्य करने में सक्षम बन पाती है।

Back to top button