Answer for सर्वर की मेमोरी कैसी होती है

सर्वर के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में मेमोरी भी एक है। सर्वर को हो सकता है कि चौबीसों घंटे चलते रहना पड़े। इसलिए मेमोरी को बहुत तेज गति का और दक्ष होना चाहिए। मेमोरी के संदर्भ में जिन बातों को महत्वपूर्ण माना जाता है, उनमें एक दोष जांच और सुधार की सुविधा भी है। मेमोरी जितनी ज्यादा होती है डेटा ट्रांसफर की गति उतनी बेहतर हो जाती है।

बस स्पीड और एक्सपेंशन स्थल:
बस ढांचा भी काफी महत्वपूर्ण है। सभी पीसी सर्वरों के लिए आम तौर पर 100 मेगाहर्ट्ज के बस को प्रामाणिक माना जाता है। अगले खास पहलू हैं विस्तार स्थल, ये स्थल जितने महत्वपूर्ण हैं, उससे कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि ये वर्कस्टेशन में किस जगह पर हैं। अगर पूर्ण लंबाई का कोई कार्ड डाला न जा सके तो इन स्थलों को होना बेकार ही है।

– ये विस्तार स्थल इसलिए महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि कभी-कभी लैन खंड बांटने के समय सर्वर में कई ईथरनेट कार्डों को डालना बेहतर माना जाता है। फिर नेटवर्क प्रिंटर और स्केनर भी अपने स्मॉल कम्प्यूटर सिस्टम इंटरफेस कार्यों के साथ आते हैं, जिन्हें सर्वर के अंदर लगाना पड़ता है।

नेटवर्क एडैप्टरः
सर्वर ढांचे का एक दूसरा अभिन्न हिस्सा नेटवर्क एडैप्टर है। न्यूनतम जरूरत 10/100 एडैप्टर की होती है। लेकिन बेहतर है कि गिगाबिट इथरनेट एडैप्टर या एटीएम एडैप्टर लिया जाए। कई एडैप्टर ऐसे आते हैं जिनमें प्रबंधन की क्षमता भी होती है।

सर्वर की अगली जरूरी चीज है-बे। बे सर्वर के भीतर वह जगह हैं जिनमें ड्राइवों (बाहरी और अंदरूनी दोनों) को लगाया जाता है। वे कितनी हैं, यह संख्या बहुत महत्वपूर्ण है। बाहरी और अंदरूनी बे की संख्या के बीच संतुलन भी बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसे कई ड्राइव होते हैं, जिन्हें सर्वर से जोड़ने की जरूरत पड़ती है।

Back to top button