Answer for Hydraulic System क्या होता है ?

उपकरणों के नियन्त्रण के लिए हाइड्रॉलिक प्रणाली भारत में पहले से ही विकसित है। अब कुछ देशों में इलेक्ट्रॉनिक संवेदकीय उपकरण उपयोग में लाये गए हैं। इसमें विकास की आवश्यकता है।

ट्रेण्ड Trend
किसी निर्माता द्वारा कोई उत्पाद बिना किसी बदलाव के कई बार बनाया जाता है, तो उसे ट्रेण्ड कहा जाता है। कोई भी निर्माता अपने उत्पादन में किसी भी समय बदलाव कर सकता है, इसके लिए उसके पास अधिकार होते हैं, क्योंकि आवश्यकता आविष्कार की जननी है। अतः निर्माता अपने उत्पाद को बेहतर बनाने में निरन्तर प्रयासरत रहते हैं, इसलिए वे कार्य की आवश्यकता तथा क्षमता के अनुसार अपने उत्पादन में बदलाव करते हैं, ये बदलाव उत्पाद को नया बनाते हैं; जैसे-

नवीन उत्पाद New Products
वर्तमान युग में ऑटोमोबाइल क्षेत्र में बहुत अधिक बदलाव आया है, विशेष रूप से ट्रैक्टर कृषि कार्य से सम्बन्धित उपकरणों में निरन्तर बदलाव आए हैं, जिसके फलस्वरूप ट्रैक्टर की कार्य क्षमता बढ़ने के साथ कृषि उत्पादन में भी उन्नति हुई है। ट्रैक्टर में ये बदलाव इंजन, क्लच, गियर बॉक्स, स्टीयरिंग, ब्रेक, डिफरैन्शियल, पी टी ओ एवं रोलर, हैरो, टिलर, रोटावेटर, बुआई यन्त्र में आए हैं। महिन्द्रा 595 DI Super Turbo, स्वराज 735, मेसी फर्ग्युसन MF 9000 DI आदि ट्रैक्टर के नये उत्पाद हैं।

इंजन Engine
ट्रैक्टर व वाहन को शक्तिशाली बनाने में इंजन का सर्वाधिक महत्त्व है, परन्तु इसके साथ यह हानि भी पहुंचाता है, जो दो रूपों में सामने आती है । (i) वायु प्रदूषण (air pollution) (ii) ध्वनि प्रदूषण (sound pollution)। इसे समाप्त करने के लिए इंजन में डी आई (DI-Direct Injection) व टबों (turbo) का प्रयोग किया गया। इससे वाहन में धुआँ न के बराबर निकलता है एवं इंजन की कार्यक्षमता में वृद्धि होती है।

क्ल च Clutch
ट्रैक्टरों में कुछ समय पहले एक ही क्लच प्लेट लगायी जाती थी, किन्तु वर्तमान में डबल क्लच प्लेट लगायी जाती है, इनमें एक ट्रांसमिशन व दूसरी पी टी ओ शाफ्ट के लिये होती है।

पावर स्टीयरिंग Power Steering
साधारण स्टीयरिंग के स्थान पर बड़े ट्रैक्टरों में पावर स्टीयरिंग का प्रावधान है, जिससे स्टीयरिंग मोड़ने में अधिक शक्ति नहीं लगानी पड़ती।

Back to top button