Answer for Systems of Measurement क्या होता है ?

हमें किसी भी वस्तु का अनुमान अपनी ज्ञानेन्द्रियों के द्वारा होता है; जैसे-आँख से देखकर हम किसी वस्तु के रूप, रंग, आकार व फैलाव को तथा हाथ से छूकर उसके कठोरपन, ठण्डे या गर्म होने का अनुमान लगा सकते हैं। इसी प्रकार, हम वस्तुओं के विषय में केवल तुलनात्मक अनुमान ही लगा सकते हैं, परन्तु यह आवश्यक नहीं है कि हमारा अनुमान सही या सटीक ही हों। यदि एकसमान आकृति की दो वस्तुएँ, छोटी तथा बहुत बड़ी लेकर देखें, तो आप अवश्य ही ठीक अनुमान लगा सकते हैं कि इन दोनों में कौन-सी वस्तु छोटी तथा कौन-सी बड़ी है, परन्तु यदि दोनों वस्तुएँ लगभग समान आकार की हैं, तो उनमें बिना माप-तौल के छोटे-बड़े की पहचान करना कठिन है, इसलिए यह बात स्पष्ट है कि परिमाणात्मक ज्ञान के लिए माप-तौल एवं सम्बन्धित उपकरणों से रू-ब-रू होना अति आवश्यक है। प्रस्तुत अध्याय में ऐसे ही उपकरणों को एकीकृत किया गया है ताकि प्रशिक्ष इनकी कार्यिकी एवं उपयोगों से अवगत हो सकें।

मात्रक Unit
हम प्रत्येक राशि की माप के लिए एक मानक (standard) मान लेते हैं, जिसके आधार पर उस राशि की माप की जाती है, इस मानक को ही मात्रक (unit) कहते हैं। यदि हम किसी कारीगर को यह कहें कि हमारी मशीन की लम्बाई 5 छड़ी हो, तो यहाँ यह बात लागू होगी कि मशीन बनाने वाले को आपकी छड़ी की लम्बाई ज्ञात हो या अपनी और आपकी छड़ी के बीच में अनुपात ज्ञात हो अन्यथा मशीन की सही लम्बाई आवश्यकतानुसार वह नहीं बता सकेगा। अत: किसी भी राशि के विषय में पूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए राशि के मानक व उसके संख्यात्मक मान का ज्ञान होना भी आवश्यक है।

Back to top button