Answer for Wear Indicator क्या होता है ?

टायर घिसने के दृश्यिक परीक्षण के लिए ट्रेड्स के खाँचों के नीचे घिसाई सूचकों की व्यवस्था (arrangement) होती है। जब घिसकर ट्रेड्स की शेष मोटाई 1.5 mm रह जाती है, तब ये सूचक 12 mm चौड़ी पट्टियों के रूप में सामने निकल आते हैं। इन सूचकों के दिखाई देने पर टायर बदल देने चाहिए।

साइड घिसाई Side Wear
जब टायर-ट्रेड मध्य की अपेक्षा साइडों से अधिक घिसता है, तो ऐसा इसमें हवा का दबाव कम होने के कारण ही होता है।

एक ओर घिसाई One Side Wear
यह गलत कैम्बर कोण या गलत टो-इन के कारण हो सकता है।

मध्य की घिसाई Wear of Middle
इसके कारण टायर में हवा का दबाव अधिक होता है।

असमान घिसाई Uneven Wear
यह टेढ़े पहिये के कारण या टायर और पहिये की असेम्बली सन्तुलित न होने से होती है। आकस्मिक् त्वरण व ब्रेकिंग के कारण भी ऐसा हो सकता है।

एक ओर अधिक घिसाई One Side More Wear
खराब सड़कों पर या तेज गाड़ी चलाने से टायर एकसमान, परन्तु अधिक घिसते हैं। उदाहरणार्थ, देखा गया है कि 50 किमी/घण्टा की अपेक्षा 90 किमी/घण्टा की गति पर दोगुनी घिसाई होती है।

ट्रेड्स पर पंखदार किनारों वाली दूत घिसाई Speedy Wear of Feathered Sides on Trades
इस प्रकार की घिसाई का पता ट्रेड्स पर अँगुलियाँ रखकर आड़ी दिशा में धीरे से उनको पहले एक ओर तथा फिर दूसरी ओर फिराने से चलता है। इस तरह की घिसाई का अर्थ है कि टायर फिसलता रहा है, जो गलत पहिया-एकरेखन के कारण हो सकता है। पिछले धुरे में ऐसा चेसिस के गलत एकरेखन के अथवा धरे के विस्थापन के कारण हो सकता है।

Back to top button