लेज़र प्रिंटर क्या होता है

DWQA QuestionsCategory: Questionsलेज़र प्रिंटर क्या होता है
itipapers Staff asked 2 years ago

लेज़र प्रिंटर क्या होता है इंकजेट प्रिंटर क्या होता है प्रिंटर क्या है लेजर प्रिंटर की विशेषता लेजर प्रिंटर में प्रयोग होता है इंकजेट प्रिंटर और लेजर प्रिंटर अंतर लेज़र प्रिंटर प्राइस डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर लेजर प्रिंटर HP

1 Answers
itipapers Staff answered 1 year ago

इस प्रिंटर का प्रयोग डेस्कटॉप पब्लिशिंग में किया जाता है। वर्तमान समय में कीमत कम होने । की वजह से इसे ऑफिसों में भी इस्तेमाल किया जाने लगा है। इस प्रिंटर द्वारा होने वाली प्रिंटिंग अत्यन्त उम्दा क्वालिटी की होती है और यह पेपर के गीला होने पर छूटती भी नहीं है। इस समय ऐसे लेजर प्रिंटर आ रहे हैं जो 2400 DPI की प्रिंटिंग करने में सक्षम होते हैं।

⇨ अपने शुरूआती दौर में यह प्रिंटर केवल श्वेत-श्याम प्रिंटिंग करने में सक्षम था लेकिन तकनीक में हुए बदलावों की वजह से आज यह कलर प्रिंटिंग कर सकता है और वह भी अत्यन्त तीव्र गति से।

⇨ यदि इस प्रिंटर की तुलना इंकजेट से करें तो इसकी गति ज्यादा तेज होती है लेकिन यह ज्यादा बिजली खाता है। यदि इसके द्वारा आप रंगीन प्रिंटिंग कर रहे हैं तो यह इंकजेट की तुलना में मंहगी पड़ती है।

⇨ यदि इस प्रिंटर की प्रिंटिंग तकनीक की बात करें तो यह लेज़र किरण के द्वारा प्रिंटिंग करता है। इसमें एक विशेष टोनर काट्रिज का प्रयोग किया जाता है जिसमें मैग्नेटिक पार्टिकल युक्त सूखी स्याही भरी होती है।

⇨ इस स्याही का निर्माण एक विशेष धातु के पीसकर किया जाता है जिससे कि इसके पार्टिकल आसानी से चार्ज हो सकें। स्याही के अलावा टोनर काट्रिज में एक ड्रम भी होता है।

⇨ निम्न चित्र में आप इसके टोनर और उन भागों को देख सकते हैं जो प्रिंटिंग की प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं

⇨ इस प्रिंटर के लिये आपको 220VAC करेंट की जरूरत होती है। इसे भी कम्प्यूटर की USB या पैरलल पोर्ट से जोड़ा जाता है। निम्न चित्र में आप लेजर प्रिंटर के सभी भागों से परिचित हो सकते हैं

⇨ जब कम्प्यूटर इसे प्रिंटिंग का निर्देश देता है तो भेजा गया डेटा लेज़र किरण की वजह से इसके ड्रम पर इलेक्ट्रोमैग्नेटिक चार्ज पैदा कर देता है। इसमें प्रयुक्त टोनर ड्रम पर उत्पन्न चार्ज की वजह से उस पर चिपक जाता है, क्योंकि यह मैटेलिक पदार्थ से बना होता है।

⇨ जब इस ड्रम के नीचे से कागज निकलता है तो यह कागज पर अक्षरों का निर्माण करता है और कागज इस प्रिंटर में लगी फ्यूज़र वायर के पास जब पहुंचता है तो यह टोनर पिघल कर कागज पर स्थाई रूप से जम जाता है। इस तरह से हमें बहुत ही उच्च क्वालिटी की प्रिंटिंग प्राप्त होती है।

⇨ प्रिंटिंग करते समय यह एक इंच में 300 से लेकर 2400 डॉट तक प्रयोग कर सकता है। यह क्षमता प्रिंटर के मॉडल पर निर्भर होती है।

⇨ वर्तमान समय में रंगीन लेजर प्रिंटर का प्रयोग भी ऑफिसों में आम हो गया है। रंगीन लेजर प्रिंटर में चार रंग की टोनर काट्रिज का प्रयोग होता है। इसलिये इसकी प्रिंटिंग काफी मंहगी होती है। दिये चित्र में आप रंगीन लेजर प्रिंटर को उसकी चार रंगीन टोनर काट्रिज के साथ देख सकते हैं

Back to top button