Answer for विंडोज़ सर्वर किसे कहते है

सर्वर एक ऐसा कम्प्यूटर होता है जिसमें हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का ऐसा संयोजन होता है जिसकी वजह से इसे सर्विसेज और क्लाइंट की तकनीक को संचालित करने के लिये डिजाइन किया जाता है। इस सर्वर पर जिस विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग किया जाता है उसे विंडोज़ सर्वर कहते हैं। इसके इनेक संस्करण प्रयोग किये जाते हैं इनमें 2003 और 2008 प्रमुख हैं। विंडोज़ सर्वर वाले कम्प्यूटर को एक अन्य शब्द डेडीकेटेड हार्डवेयर के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह अपने से जुड़े कम्प्यूटरों को सर्विस देने में सक्षम होता है।
 
यदि सर्वर कम्प्यूटर के हार्डवेयर की बात करें तो यह आम कम्प्यूटर से कुछ अलग होता है। सर्वर में हमेशा CPU की ज्यादा गति मायने नहीं रखती है बल्कि इसके स्थान पर यह बात ज्यादा महत्वपूर्ण होती है कि यह कितनी गति के नेटवर्क कनेक्शन उपलब्ध करा सकता है।
 
– सर्वर के लिये आवश्यक है कि इसकी I/O गति तेज हो। सर्वर को नेटवर्क पर ज्यादतर बिना की-बोर्ड और मॉनीटर के प्रयोग किया जाता है। कई सर्वरों में तो ग्राफकल यूजर इंटरफेस भी नहीं होता है। क्योंकि नेटवर्क वैज्ञानिक मानते हैं कि इससे सर्वर के रिसोर्सेज बेकार में इस्तेमाल होंगे। इसी तरह से सर्वर कम्प्यूटर से USB और ऑडियो जैसी पोर्ट भी हटा दी जाती
 
– सर्वर हमेशा ऑन रहते हैं और चलते रहते हैं इसलिये इनमें प्रयोग किया जाने वाला हार्डवेयर उच्चकोटि का होता है जो लम्बे समय तक काम कर सके। सर्वर में लगे प्रोसेसरों – डा
 
सिनापाजण्याप तरह: आडट पालिसा आरनटवक ट्राफक मनजमंट रखने के लिये बड़े फैन और वाटर कूलिंग सिस्टम प्रयोग किया जाता है। इनें अन-इंटरप्टेबल विद्युत आपूर्ति की जाती है जिससे यह बिना रुके चल सकें।
 
इंटरनेट का सम्पूर्ण ढांचा ही क्लाइंट-सर्वर पर आधारित होता है। इंटरनेट में उच्च-स्तर के रूट नेमसर्वर और DNS सर्वर प्रयोग किये जाते हैं। ये राउटरर्स से जुड़े होते हैं जो ट्रैफिक को डायेक्ट करते हैं।
 
सर्वरों पर प्रयोग के लिये माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज़ सर्वर के नाम से एक ऑपरेटिंग सिस्टम लांच किया था। यह नेटवर्किंग में खूब इस्तेमाल किया गया। इसमें कुछ ऐसी विशेषतायें थीं जो विंडोज़ के उस समय तक प्रचलित ऑपरेटिंग सिस्टमों से अलग थीं। आइये एक नजर ऐसी ही कुछ विशेषताओं पर डालें
 
– इस ऑपरेटिंग सिस्टम में इंटनेट की सूचनाओं को शेयर करके प्रयोग करने के लिये IIS तकनीक के संस्करण 6.0 को जोड़ा गया था। जिससे आसानी से एक इंटरनेट कनेक्शन को शेयर करके सम्पूर्ण नेटवर्क पर प्रयोग किया जा सकता था।
 
→ नेटवर्क और डेटा की सुरक्षा के लिये इसमें फॉयरवाल को स्थायी रूप से जोड़ दिया गया, जिससे कि नेटवर्क बिना बाधा के लंबे समय तक कार्य कर सके।
 
– विंडोज़ सर्वर के संस्करणों की बात करें तो यह व्यवसाय के आकार के अनुसार कई संस्करणों में आता है। इसके अलगअलग संस्करणों में प्रिंटर और फाइलों को शेयर करने की सुविधा निहित होती है।
 
• इसमें एक नयी और परिष्कृत एक्टिव डायरेक्टरी को जोड़ा .. गया है जो एक साथ डायरेक्टरी सर्वर (ADAM) कई प्रतिरूपो को रन करने में सक्षम है।
 
– इसमें एक बैकअप सिस्टम जोड़ा गया है जो गुम हो गयी फाइलों को रिस्टोर करने में मदद करता है। बेहतर डिस्क मैनेजमेंट की वजह से इसमें बेकअप की ऐसी सुविधा है जो शेडो फाइलों को भी इसके लिये प्रयोग कर सकती है।
 
→ इसमें हार्डवेयर पर आधारित एक वाचडॉग टाइमर है जो सर्वर को निश्चित समय सीमा में रिस्टार्ट करने में सक्षम होता है।

Back to top button