Answer for स्वचालिक एलोकेशन या आबंटन क्या होता है

डीएचसीपी सर्वर स्थायी रूप से एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा निर्धारित सीमा से अनुरोध करने वाले क्लाइंट को एक मुफ्त आईपी एड्रेस. प्रदान करता है।
यह एकदम डायनामिक एलोकेशन की तरह से होता है, लेकिन डीएचसीपी सर्वर आबंटित किये गये पिछसे सभी आईपी एड्रेसों की एक टेबल बनाकर रखता है, ताकि यह क्लाइंट को प्राथमिकता के आधार पर वही आईपी एड्रेस एलोकेट कर सके जो क्लाइंट के पास पिछली बार था।
 
– स्टैटिक एलोकेशन या आबंटन:
डीएचसीपी सर्वर एक मैक एड्रेस/आईपी पेयर से युक्त एक तालिका के आधार पर आईपी एड्रेस आबंटित करता है जोकि मैन्युली नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेर के द्वारा भरे जाते है। केवल इस टेबल में लिस्टेड मैक एड्रेस से क्लाइंट को अनुरोध करने पर एक आईपी एड्रेस एलोकेट होगा। इस सुविधा को अक्सर स्टेटिक डीएचसीपी एसाइमेंट फिक्सड एड्रेस DHCP आरक्षण या स्टेटिक डीएचसीपी या आईपी बाइंडिंग कहा जाता है।
– डीएएचसीपी, IANA द्वारा निर्धारित दो पोर्टों का प्रयोग बूटअप के लिये करता है। इनमें सर्वर साइड के लिये 67/udp और क्लाइंट साइड के लिये 68/udp
– डीएएचसीपी (DHCP) ऑपरेशन के चार बुनियादी स्टेप होते हैं और ये हैंBOOTP client
 
आईपी सर्च या इंटरनेट प्रोटोकॉल की खोज:
इस स्टेप के अंतर्गत क्लाइंट फिजिकल सबनेट पर उपलब्ध डीएचसीपी सर्वर को खोजने के लिये संदेश प्रसारित करता है। नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर एक लोकल रूटर को एक अलग सबनेट से डीएचसीपी के पैकेट को एक DHCP सर्वर पर आगे भेजने के लिये कॉन्फीगर कर सकते हैं। क्लाइंट द्वारा की गयी इस क्रिया के परिणामस्वरूप 255.255.255.255 या विशिष्ट सबनेट प्रसारण एड्रेस के साथ एक USP या यूजर डेटाग्राम प्रोटोकॉल पैकेट बनता है।
 
• एक डीएचसीपी क्लाइंट अपने पिछले ज्ञात आईपी पते के लिये भी अनुरोध कर सकता है। यदि क्लाइंट उस नेटवर्क से जुड़ा रहता है जिसके लिये आईपी वैद्य है तो सर्वर रिक्वेस्ट को स्वीकार कर सकता है। अन्यथा यह इस बात पर निर्भर है कि सर्वर को अधिकृत रूप में सेट किया गया है या नहीं। एक आधिकारिक सर्वर, रिक्वेस्ट को अस्वीकार कर देगा जिसकी वजह से क्लाइंट तुरंत एक नया आईपी एड्रेस पूछेगा। एक गैरआधिकारिक सर्वर अनुरोध को केवल अनदेखा कर देता जिससे क्लाइंट को एक नया अनुरोध भेजने और नया आईपी एड्रेस पूछने के लिये कार्यान्वयन पर निर्भर समय मिल जाता है।
 
• आईपी लीज प्रस्ताव:
जब एक डीएचसीपी सर्वर क्लाइंट से एक आईपी लीज की रिक्वेस्ट को प्राप्त करता है तो यह क्लाइंट के लिये एक आईपी एड्रेस को सुरक्षित रखता है और क्लाइंट को एक DHCP ऑफर मैसेज भेजकर आईपी लीज की पेशकश करता है। इस संदेश में क्लाइंट का मैक एड्रेस, सर्वर द्वारा प्रस्तावित आईपी एड्रेस, सबनेट मास्क, लीज का समय और प्रस्ताव भेजने वाले सर्वर का आईपी एड्रेस होता है।
 
सर्वर CHADDR (क्लाइंट हार्डवेयर एड्रेस) फील्ड में निर्दिष्ट क्लाइंट के हार्डवेयर के आधार पर कॉन्फीगुरेश को निर्धारित करता है। यहां पर सर्वर 192.168.1.1, YIADDR फील्ड में आईपी एड्रेस को निर्धारित करता है।

Back to top button