कम्प्यूटर के काम करने की गति कम हो गयी हो तो क्या करना चाहिए

DWQA QuestionsCategory: Questionsकम्प्यूटर के काम करने की गति कम हो गयी हो तो क्या करना चाहिए
itipapers Staff asked 2 years ago

कम्प्यूटर के काम करने की गति कम हो गयी हो तो क्या करना चाहिए कंप्यूटर को on करने की प्रक्रिया क्या कहलाती है कंप्यूटर को बंद करने की प्रक्रिया क्या कहलाती है कंप्यूटर चालू करने की प्रक्रिया कंप्यूटर में संकेत क्या होता है गूगल तुम इंसान हो या कंप्यूटर कंप्यूटर स्टार्ट नहीं हो रहा है कंप्यूटर की स्क्रीन को क्या कहते हैं क्या आप कंप्यूटर हो

1 Answers
itipapers Staff answered 12 months ago

यदि कम्प्यूटर की डेटा प्रोसेसिंग गति कम हो गयी है तो इसके लिये आपको कम्प्यूटर को अपग्रेड करने का कार्य निम्न प्रकार से करना होगा

⇨ डेटा प्रोसेसिंग गति कम होने पर यदि सिस्टम को अपग्रेड करना है तो सबसे पहले यह जांचें कि कम्प्यूटर में प्रोसेसर कौन सा लगा है। क्योंकि कम्प्यूटर की प्रोसेसिंग गति, उसमें लगे प्रोसेसर की गति पर निर्भर होती है।

⇨ यदि आपके सिस्टम में लगा मदरबोर्ड, उसमें पहले से लगे प्रोसेसर से ज्यादा गति के प्रोसेसर को सपोर्ट करता हो तो आप प्रोसेसर को बदलने की बात सोच सकते हैं। इस बात की जानकारी प्राप्त करने के लिये मदरबोर्ड के साथ आये मैन्युअल को या अन्य दस्तावेजों को पढ़ें।

⇨ यदि आपके पास मदरबोर्ड से सम्बन्धित दस्तावेज नहीं हैं तो इंटरनेट पर जायें और मदरबोर्ड बनाने वाली कम्पनी की वेबसाइट को खोलें और मदरबोर्ड का मॉडल नंबर एंटर करने यह जानकारी हासिल करें कि उसमें अधिकतम कितनी गति का प्रोसेसर लग सकता है।

⇨ उदाहरण के लिये यदि आपके पास इंटेल कम्पनी का डेस्कटॉप सीरीज़ का DQ77CP नामक बोर्ड है और आपने इसमें इंटेल का Celeron-G1620 नामक प्रोसेसर लगा रखा है। अब यदि इस मदरबोर्ड में नया और उच्च शक्ति का प्रोसेसर लगाना है तो आप इंटेल की वेब साइट पर जाकर इस मदरबोर्ड की प्रोसेसर सपोर्ट क्षमता की जांच करें।

⇨ आपको पता चलेगा कि यह मदरबोर्ड इंटेल के कोर सीरीज़ के i7-37705 प्रोसेसर को सपोर्ट करता है। इसका अर्थ है कि आप इसमें नया और ज्यादा ताकतवर प्रोसेसर लगा सकते हैं। 17-3770S प्रोसेसर, इंटेल के सेलरऑन प्रोसेसर से बहुत ज्यादा शक्तिशाली है।
⇨ इस तरह की अवस्था में

⇨ रैम अपग्रेड करना कई बार प्रोसेसिंग गति के कम होने का कारण प्रोसेसर के अलावा रैम का कम होना भी होता है। ऐसे में प्रोसेसर बदलने पर भी कम्प्यूटर के काम करने की गति पर कोई खास फर्क नहीं पड़ता है। ऐसी अवस्था में आपको रैम बढ़ानी होगी।

⇨ रैम बढ़ाने के लिये सबसे पहले यह पता करें कि आपके कम्प्यूटर का मदरबोर्ड कितनी मात्रा में RAM को सपोर्ट कर सकता है।

⇨ उदाहरण के लिये यदि आपके सिस्टम में 1GB की चार सिम या डिम लगी हैं और कुल मिलाकर यह मात्रा 4GB होती है। लेकिन आपका सिस्टम 32 GB तक को सपोर्ट करता है तो इसमें रैम को बढ़ाया जा सकता है।

⇨ मदरबोर्ड के साथ आये दस्तावेजों या फिर मदरबोर्ड बनाने वाली कम्पनी की वेबसाइट पर जाकर इस बात की जांच करें कि इसमें अधिकतल कितनी रैम लग सकती है और जो रैम इसमें लगेगी उसकी अपनी गति कितने MHz तक हो सकती है। कुछ RAM 100 MHz तक की होती हैं और कुछ की गति 133 MHz तक होती है।

⇨ आमतौर पर 133 MHz गति वाली रैम ही लगानी चाहिये। कम्प्यूटर में विद्युत आपूर्ति को बंद करने के बाद उसके कवर को खोलें और मदरबोर्ड की रैम स्लॉट में लगी पुरानी रैम को निकाल लें। इसके लिये रैम स्लॉट के साइड में लगे हुक खोलने होते हैं।

⇨ पुरानी रैम को निकालने के बाद उसके स्थान पर नयी रैम को लगायें और सिस्टम को खुली अवस्था में ऑन करके देख लें। यदि कम्प्यूटर सिस्टम सही ढंग से ऑन होकर बूट हो गया है तो इसे बंद करें और कवर को लगा दें। इस तरह से आप रैम को अपग्रेड कर सकते हैं।

Back to top button