फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (FTP) किसे कहते है

DWQA QuestionsCategory: Questionsफाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (FTP) किसे कहते है
itipapers Staff asked 2 years ago

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (FTP) किसे कहते है फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल की कार्यप्रणाली का वर्णन करें। फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल को विस्तार से समझाइए फाइल ट्रांसफर प्रोटोकोल FTP FTP Full Form in Medical एचटीटीपी क्या है टेलनेट क्या है वेब सर्वर और वेब प्रोटोकॉल की भूमिका समझाइए

1 Answers
itipapers Staff answered 12 months ago

– यह एक नेटवर्क प्रोटोकॉल होता है, इसके द्वारा इंटरनेट पर आधारित टीसीपी/ आईपी नेटवर्क पर फाइलों का आदान प्रदान किया जाता है।

– इसे यूजर बेस्ड पासवर्ड या अनानिमस यूजर एक्सेस के द्वारा प्रयोग किया जाता है।

वर्तमान समय प्रयोग होने वाले वेब ब्राउजर इसे सपोर्ट करते हैं और फाइल मैनेजमेंट सर्वरों से आसानी से जुड़ सकते हैं।

– इस तकनीक का प्रयोग करके आप रिमोट लोकेशन की फाइलों को स्थानीय फाइलों की तरह से उपयोग में ला सकते हैं। इसमें FTP URL को प्रयोग में लाते हैं।

फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल का पहला प्रयोग 16 अप्रैल 1971 को किया गया था, उस समय इसका नाम RFC 114 था। समया बीतने के साथ इसमें लगातार सुधार किये गये और अक्टूबर 1985 में इसमें सुरक्षा सम्बन्धी महत्वपूर्ण सुधार किये गये। इसमें सिक्योर फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल को जोड़ा गया जिससे फाइलों का सुरक्षित आदान-प्रदान सम्भव हो सका। इस प्रोटोकॉल को निम्न कार्यों में प्रयोग किया जाता है

• कम्प्यूटर प्रोग्राम या डेटा फाइलों को शेयर करना।
• किसी दूर की लोकेशन के कम्प्यूटरों के प्रयोग को बढ़ावा देना।
• अलग-अलग होस्ट के बीच फाइलों के स्टोरेज सिस्टम को आपस में प्रयोग करना।
– विश्वसनीयता के साथ एक-दूसरे कम्प्यूटरों का डेटा प्रयोग करना।
– कम्प्यूटर नेटवर्किंग में फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल को निम्न मोड में प्रयोग किया जाता है
– एक्टिव या सक्रिय मोड।
• डिएक्टिव या निष्क्रिय मोड।
• वाइड डिएक्टिव या विस्तृत निष्क्रिय मोड ।

– नेटवर्क पर डेटा का आदान-प्रदान करते समय कई डेटा मोड उपयोग में लाये जाते हैं लेकिन इनमें निम्न दो का प्रयोग सबसे ज्यादा किया जाता है

– ASCII मोड: इस मोड में केवल टेक्स्ट डेटा फाइलों का आदान-प्रदान करते हैं।

– IMAGE मोड: इस मोड में इमेज और अन्य तरह की डेटा फाइलों का आदान-प्रदान करते हैं। इसमें डेटा भेजने वाला कम्प्यूटर प्रत्येक फाइल की बाइट के लिये एक-एक बाइट को क्रम से भेजती है जिससे इसे ग्रहण करने वाला कम्प्यूटर इस बाइट की धारा को संचित करता रहता है।

-फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल को वर्तमान समय में डेटा ट्रांसफर की सबसे असुरक्षित पद्धति माना जाता है। इसमें डेटा को इन्क्रिप्ट करने की कोई निर्धारित विधि नहीं है। इसका अर्थ यह हुआ कि ज्यादातर नेटवर्क सिस्टमों में यूजर नेम,पासवर्ड और अन्य फाइलों को एक स्पाइंग पैकेज के प्रयोग के द्वारा कोई भी सरलता से हथिया सकता है।

Back to top button