माउण्टेड सीड ड्रिल का प्रयोग कहा किया जाता है ?

DWQA QuestionsCategory: Questionsमाउण्टेड सीड ड्रिल का प्रयोग कहा किया जाता है ?
itipapers Staff asked 8 months ago

माउण्टेड सीड ड्रिल का प्रयोग कहा किया जाता है ?सीड ड्रिल का प्रयोग किया जाता है सीड ड्रिल मशीन Price सीड कम फर्टिलाइजर ड्रिल बीजों का रोपण किस प्रकार किया जाता है बीज बोने के लिए ड्रिल यंत्र का आविष्कार किसने किया बीज बोने की मशीन सीडील Price

1 Answers
itipapers Staff answered 8 months ago

इसकी बनावट टिलर जैसी ही होती है, परन्तु इसके फैरो छोटे होते हैं और इसमें स्प्रिंग नहीं लगाये जाते। फ्रेम के मध्य में दोनों ओर दो स्लाटिड बेस व्हील लगाया जाता है। इसे चेन चढ़ाकर सीड बॉक्स के नीचे लगाया जाता है। बांसुरी के आकार का सीड ड्रॉपिंग मैकेनिज्म, शाफ्ट जो चौकोर होती है, के साथ जोड़ा जाता है। इसे व्हील चेन या गियर सेट से चलाया जाता है। फ्ल्यटिड शाफ्ट के घमने पर बीज बाहर की ओर लगी एक फ्लेक्सिबल ट्यूब के गेट (रास्ते) में गिरते हैं। इस गेट का साइज (mouth) बीज के अनुसार एडजस्ट किया जा सकता है। बीज की गिरने की मात्रा भी सीड बॉक्स में लगी फीड रोल (feed roll) के द्वारा खिसकाकर कम या अधिक की जा सकती है।
टिलर में फैरो अधिक लम्बी, चौड़ी एवं खुली होती है, परन्तु सीड ड्रिल में फैरो छोटे व पीछे से ढकी होती है। इससे बीज की मात्रा एवं गहराई सेट करने में सहायता मिलती है। सीड ड्रिल से बीज की मात्रा खाद की मात्रा सेट करने के लिए सीड बॉक्स में ऊपर लीवर लगे होते हैं। सीड का साइज उसके फैरो की संख्या एवं फैरो के बीच की दूरी पर निर्भर करता है। जैसे ड्रिल पर 12/18 लिखा है। ड्रिल में 12 फैरो हैं एवं फैरो के बीच की दूरी 18 सेमी है। बिजाई करते समय सीड ड्रिल के पीछे मार्क व्हील लगा होता है। इससे दूसरे चक्कर में उतना अन्तर देकर बिजाई की जाती है।

डिस्क ड्रिल Disc Drill
इसमें सीड ड्रिल की तरह बीज बोने का प्रबन्ध होता है। अन्तर केवल यह होता है कि यह टिलर के पीछे भी लगाई जा सकती है, जिसमें दो डिस्क लगाई जाती हैं, जो बोई हुई नाली को ढक देती हैं। सीड ड्रिल से बीज की मात्रा ज्ञात करने के निम्न पद आवश्यक हैं
1. सीड ड्रिल की चौड़ाई ज्ञात करें।
2. दो फालों (हैरो) के बीच की दूरी ज्ञात करें।
3. सीड ड्रिल को लकड़ी या ईंट पर इस प्रकार रखें कि दो पहिये घूमते रहें।
4. ड्रिल के ड्राइव व्हील का व्यास नापकर पहिये की परिधि निकालें। जहाँ, C=ED C = पहिये की परिधि (मीटर) D = पहिये का व्यास (मीटर) परिधि पहिये के ऊपर धागा लपेटकर भी निकाली जा सकती है।
5. चक्कर नापने के लिए पहिये पर चॉक से निशान लगायें।
6. मशीन के एक चक्कर में बोये गये क्षेत्र का क्षेत्रफल निकालें। बोया गया क्षेत्र = सीड ड्रिल की चौड़ाई – पहिये की परिधि
7. एक एकड़ में बिजाई के लिए मशीन के चक्कर 43560 फीट (एक एकड़ की लम्बाई) को 7 से विभाजित करके प्राप्त करें।
8. सीड बॉक्स भर लें।
9. सीड ड्रिल में लगे एडजस्टर को आवश्यकतानुसार बीज गिराने के लिए सेट करें।
10. ड्रिल के फैरो के नीचे कपड़े या प्लास्टिक की थैली बाँध दें।
11. ड्रिल के पहिये को एक हेक्टेयर के चक्कर के अनुसार घुमायें।
12. प्रत्येक थैली में बीज की मात्रा समान होनी चाहिए।
13. बीज की मात्रा ज्ञात करें।
14. यदि बीज अधिक कम है, तो एडजस्टर को एडजस्ट करके दोबारा यही क्रिया करके चैक करें और इच्छित मात्रा का बीज व खाद डालें।

Back to top button