History of lock stitch sewing machine क्या होता है

DWQA QuestionsCategory: QuestionsHistory of lock stitch sewing machine क्या होता है
itipapers Staff asked 2 years ago

History of lock stitch sewing machine क्या होता है How to operate a lock stitch sewing machine Lockstitch sewing machine What is a lockstitch sewing machine Types of lock stitch machine what is the difference between a lockstitch sewing machine to an electric/motorized sewing machine Parts of lock stitch sewing machine Lockstitch sewing machine description Lockstitch sewing machine is also called

1 Answers
itipapers Staff answered 12 months ago

एक अंग्रेज आविष्कारक थॉमस सेंट ने 1790 में अपनी मशीन का डिजाइन और उससे संबंधित अधिकारों को रजिस्टर करवा लिया था। लेकिन यह मशीन केवल चमड़ा और कैन्बस के लिए ही बनी थी। 1874 में न्यूटन विल्सन (Newton Wilson) नाम के आविष्कारक ने लंदन के पेटेन्ट ऑफिस में सेंट की मशीन में कुछ सुधार करके बनाया जोकि London Science Museum में रखी गई।
एक आस्ट्रियन टेलर जोसफ ने एक सिलाई मशीन को 1807 में बनाना शुरू किया और 1814 में कार्य करने लायक मशीन संसार को भेंट दी। 1841 में Thimonnier नाम के आविष्कारक ने 80 मशीनों की फैक्टरी तैयार की जिससे फ्रैंच आर्मी की यूनिफार्म सिली गई। और यह फैक्टरी फ्रांस के दर्जियों द्वारा ही नष्ट कर दी गई। पहली अमेरिकन लॉक स्टिच सिलाई मशीन वाल्टर हंट (Walter Hunt) के द्वारा 1832 में अविष्कृत की गई। इस मशीन में शटल व सुई के द्वारा ऊपर व नीचे के धागों से Lock Stitch बनाया जाता है। इस मशीन में सुई Horizontally कपड़े में जाती थी और नीचे की तरफ एक लूप छोड़ती थी। तब शटल लूप में से गुजर कर धागे को Interlock कर देता था किन्तु इस मशीन को Walter Hunt ने पेटेंट नहीं कराया। लेकिन 1845 में हंट की मशीन के आधार पर ही Elias Howe ने सिलाई मशीन बनाई। लेकिन इसमें फैब्रिक पर आड़ा टांका नहीं जाता था। अर्थात् यह उससे बेहतर थी। इसके बाद आइजक मैरिट सिंगर (Isaac Merritt Singer) ने इस मशीन में सुधार किए और 1854 में उनकी मशीन की अच्छाईयाँ देखते हुए उन्हें रॉयल्टी तथा पुरुस्कार से सम्मानित किया गया। इस प्रकार समय-समय पर इन मशीनों के सुधार किए जाते रहे। 2 जून 1857 को सिंगल थ्रेड सिलाई मशीन से पहली बार चेन स्टिच किया गया। इन्हीं मशीनों के आविष्कारों के फलस्वरूप ही आज 21 वीं सदी में भी ये सिलाई मशीनें आराम से काम कर रही हैं। आज के समय में मशीनें दो धागों से भी ज्यादा धागों की मशीनें प्रयोग की जा रही हैं। मशीन साइज में छोटी होने के अतिरिक्त काम की पूर्ति ठीक से कर रही है।

Back to top button